spot_img

शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा के ब्रिटिश पोर्न कंपनी से थे ताल्लुकात : मुंबई पुलिस

Must Read

acn18.com/मुंबई: बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा की पोर्न फिल्म निर्माण के आरोप में गिरफ्तारी के बाद नित नए खुलासे हो रहे हैं. मुंबई पुलिस का कहना है कि राज कुंद्रा की एक कंपनी लंदन की एक पोर्न कंपनी के साथ काम कर रही थी. ब्रिटेन की वो पोर्न फर्म उनके एक नजदीकी रिश्तेदार ने खड़ी की थी, जो भारत के लिए पोर्नोग्राफिक कंटेंट (Pornographic Video) तैयार करने के काम में लिप्त थी.राज कुंद्रा (45 वर्ष) को मुंबई क्राइम ब्रांच ने सोमवार रात को इस केस में गिरफ्तार किया था.

मुंबई पुलिस का कहना है कि अश्लील फिल्मों के निर्माण और उन्हें कुछ ऐप के जरिये प्रसारित करने में राज कुंद्रा शामिल थे. मंगलवार सुबह राज कुंद्रा को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया था, जिसने उन्हें 23 जुलाई तक पुलिस रिमांड में भेज दिया है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि राज कुंद्रा की कंपनी वियान इंडस्ट्रीज के रिश्ते लंदन की कंपनी केनरिन से थे. ये केनरिन कंपनी हॉटशॉट्स ऐप का संचालन करती है.

यह कंपनी कथित तौर पर अश्लील सामग्री के निर्माण में लिप्त है. ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस मिलिंद भरांबे ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा था कि यह कंपनी तो लंदन में पंजीकृत थी, लेकिन कंटेन निर्माण, ऐप का संचालन और अकाउंटिंग कुंद्रा की कंपनी वियान इंडस्ट्रीज के जरिये होता था. उनका कहना है कि केनरिन का मालिक राज कुंद्रा का बहनोई है. अधिकारी  के मुताबिक, पुलिस ने ऐसे सबूत इकट्ठा किए हैं, जो दोनों कंपनियों के बीच रिश्तों को स्थापित करते हैं.

भरांबे का कहना है कि राज कुंद्रा के मुंबई ऑफिस की तलाशी के बाद उनके बीच का एक व्हाट्सऐप ग्रुप पाया गया है, ईमेल का आदान-प्रदान हुआ है अकाउंट संबंधी डिटेल और कुछ पोर्न फिल्म ( porn films) भी मिले हैं. अधिकारी के अनुसार, ऐसे अहम सबूत केस में पुलिस ने इकट्ठा किए हैं. इसके तहत राज कुंद्रा और उनके आईटी हेड रेयान थोर्प को गिरफ्तार किया गया है. मामले में आगे की जांच जारी है.

 

पुलिस ने राज कुंद्रा को इस मामले में मुख्य साजिशकर्ता बताया है. मालवानी पुलिस स्टेशन में 4 फरवरी को इस संबंध में केस दर्ज किया गया था. इस मामले में अप्रैल में चार्जशीट दायर होने के बाद अब राज कुंद्रा की गिरफ्तारी होने के सवाल पर मुंबई पुलिस के अधिकारी ने कहा कि केस को मजबूत बनाने के लिए इलेक्ट्रानिक सबूतों की जांच परख जरूरी थी. पुलिस की ऐसी किसी कार्रवाई के पहले पैसे के लेनदेन, अकाउंट के असली मालिकों, पोर्न कंटेंट और उसे प्रसारित करने वालों को जांच परख कर प्रमाणित करना आवश्यक था.

Latest News

ढाई बरस में पहली बार विभाजन, चंदूलाल मेडिकल बिल संशोधन विधेयक पर मत विभाजन.. मत विभाजन के बाद संशोधन प्रस्ताव ख़ारिज

रायपुर। राज्य बनने के बाद पाँचवी विधानसभा के कार्यवाही काल में यह पहला मौक़ा है जबकि संशोधन विधेयक पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -