हिन्दी मीडियम के चिन्हांकित स्कूलों को भी बनाया जाएगा सुविधा संपन्न, कलेक्टर ने जिले में नए नवाचार के लिए तीन दिन में योजना तैयार करने दिए निर्देश, समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में हुई शासकीय कामकाज की समीक्षा

ACN18.COM/ राज्य सरकार द्वारा शुरू किए गए स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूलों की तर्ज पर कोरबा जिले में कुछ चिन्हांकित हिन्दी मीडियम के स्कूलों को भी सर्वसुविधा संपन्न बनाने की कवायद शुरू की जा रही है। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने हिन्दी माध्यम के विद्यार्थियों को भी पढ़ाई की बेहतर सुविधा और माहौल देने के लिए जिले में नए नवाचार की रूपरेखा आज समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में अधिकारियों के साथ तय की। उन्होंने जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में सभी विकासखण्ड मुख्यालयों में एक-एक तथा नगरीय निकाय क्षेत्रों में विशेष सर्वे कर हिन्दी मीडियम के स्कूलांे का चयन करने के निर्देश जिला शिक्षा अधिकारी को दिए। जिला शिक्षा अधिकारी अब तीन दिवस में ऐसे हिन्दी मीडियम स्कूलों का चयन करेंगे और उन्हें स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूलांे की तर्ज पर विकसित करने की कार्ययोजना तैयार की जाएगी। कलेक्टर श्रीमती कौशल ने आज समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में विभिन्न शासकीय विभागों के कामकाज की समीक्षा की और विभागीय अधिकारियों को चालू वित्तीय वर्ष में लक्ष्य अनुसार हितग्राहियों को योजनाओं से लाभान्वित करने के निर्देश दिए। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री कुंदन कुमार, नगर निगम आयुक्त श्री एस. जयवर्धन, एडीएम श्रीमती प्रियंका महोबिया सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी शामिल हुए। वीडियो काॅन्फे्रंसिंग के माध्यम से चारों अनुभागों के एसडीएम एवं विकासखण्ड मुख्यालयों से मैदानी स्तर के अधिकारी-कर्मचारी भी इस बैठक में मौजूद रहे।
बैठक में कलेक्टर ने गोधन न्याय योजना की समीक्षा के दौरान करतला ,कोरबा एवं कटघोरा विकासखण्ड के अधिकारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त की और खरीदे गए गोबर को वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए दो दिनों में वर्मी टांको में भरने के निर्देश दिए। उन्होंने अब तक खरीदे गए गोबर और बनी वर्मी खाद की मात्रा की जानकारी भी जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों से ली। श्रीमती कौशल ने गौठानांे में आवर्ती चराई के लिए अगले 15 दिनों में सभी व्यवस्थाएं पूरी कर सूचित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने धान खरीदी की समीक्षा के दौरान सभी पात्र किसानों से धान की खरीदी सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने कोचियों या अवैध रूप से परिवहन किए गए धान पर कड़ी कार्रवाई करने के लिए राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया। श्रीमती कौशल ने जिला विपणन अधिकारी से धान के उठाव की भी जानकारी ली और किसी भी परिस्थिति में समितियो में धान जाम नहीं होने देने के लिए पूरी व्यवस्था करने के निर्देश दिए।
बैठक में कलेक्टर ने पंचायत सचिवों और रोजगार सहायकों की हड़ताल के बावजूद भी गांवो में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत चल रहे कामों को निरंतर रखने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने यह भी निर्देशित किया कि किसी भी परिस्थिति में गांवो में लोगों को रोजगार की कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने पंचायत सचिवों और रोजगार सहायकों के स्थान पर जनपद में पदस्थ सहायक विकास विस्तार अधिकारियों, करारोपण अधिकारियों, तकनीकी सहायक एपीओ आदि को जिम्मेदारी देकर पंचायत स्तर पर कार्यों की गति बनाये रखने के निर्देश दिए। श्रीमती कौशल ने यह भी निर्देशित किया कि किसी व्यक्ति द्वारा लोगों को रोजगार गारंटी योजना के काम में जाने से रोकने या ग्रामीणों के रोजगार को बाधित करने की कोशिश पर उनके विरूद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई प्रस्तावित की जाए।
आज की समय सीमा की बैठक में कलेक्टर ने जिले में एल्युमिनियम पार्क की स्थापना के लिए भी अधिकारियों से चर्चा की। एसडीएम सुनील नायक ने बताया कि एल्युमिनियम पार्क के लिए लगभग 200 एकड़ जमीन की आवश्यकता होगी। कलेक्टर ने जिले के बालको या बालको क्षेत्र से लगे इलाके में एल्युमिनियम पार्क के लिए जमीन चिन्हांकित करने के निर्देश एसडीएम को दिए। बैठक में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा अपने प्रवास के दौरान कोरबा जिले के विकास के लिए की गई घोषणाओं के क्रियान्वयन पर भी चर्चा हुई। श्रीमती कौशल ने मुख्यमंत्री की घोषणाओं से संबंधित सभी विभागों के अधिकारियों को तत्काल तीन दिनों में प्रस्ताव तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए ताकि अगले सप्ताह तक घोषणाओं के क्रियान्वयन के लिए प्रस्ताव राज्य शासन को भेजे जा सकें।