बदल रहा यूएई:अब साथ रह सकेंगे अविवाहित जाेड़े, ‘ऑनर किलिंग’ कानूनन अपराध हाेगा; शराब प्रतिबंध में ढील

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने शनिवार को देश के मुस्लिम पर्सनल लाॅ में सुधार के लिए बड़े बदलाव की घोषणा की है। अब देश में अविवाहित जोड़ों काे साथ रहने की आजादी हाेगी। यूएई में यह लंबे समय से अपराध था। शराब पर प्रतिबंध में ढील दी गई है, जाे मुस्लिम देशाें में हराम माना जाता है। इसके साथ ही ‘ऑनर किलिंग’ को अब कानूनन अपराध बनाया गया है।

यूएई ने मुस्लिम पर्सनल लाॅ में इस बदलाव से व्यक्तिगत स्वतंत्रता का दायरा बढ़ा दिया है। यूएई ने इस्लामी कानून के बावजूद पर्यटकों, विदेशी काराेबारियाें और उद्याेगाें काे आकर्षित करने के लिए पश्चिमी संस्कृति काे जगह दी है। यह नए यूएई की दिशा में बढ़ाया गया कदम है। यूएई की सरकारी न्यूज एजेंसी ने नए शाही फरमानाें की जानकारी दी है। इसमें कहा गया है कि इन सुधाराें का मकसद देश की आर्थिक और सामाजिक प्रतिष्ठा को प्राेत्साहित करना है और दुनिया काे यह संदेश देना है कि वह सहिष्णुता के सिद्धांतों को मजबूत कर रहा है।

यह कदम यूएई और इजरायल के बीच संबंधों को सामान्य बनाने के लिए अमेरिका से हुए ऐतिहासिक डील की दिशा में उठाया गया है। इससे इजरायल से पर्यटकों और निवेश आने की उम्मीद है। रिपोर्ट के मुताबिक, यह घाेषणा ऐसे समय की गई है, जब दुबई वर्ल्ड एक्सपो की मेजबानी के लिए तैयार हो रही है। इस वर्ल्ड एक्सपाे में दुनियाभर से काराेबारियाें, उद्यमियाें के सहित 2.5 कराेड़ पर्यटकाें के आने का अनुमान है।

यह एक्सपाे अक्टूबर में ही हाेना था, लेकिन काेराेना महामारी के कारण इसे अगले साल आयाेजित किया जाएगा। अखबार ‘द नेशनल’ ने कहा कि ये बदलाव तुरंत प्रभाव डालेंगे, जो अमीरात के सुल्तान के शाही महल में तेजी से बदलते समाज के साथ तालमेल बनाए रखने के प्रयासों को भी दर्शाता है।

फिल्म निर्माता ने कहा- नए कानून से कुछ लोग खुश नहीं हैं

संयुक्त अरब अमीरात के शाह ने भले ही उदारवादी और सुधार की दिशा में इस्लामिक लाॅ में सुधार की बात कर रहे हाें। लेकिन इससे यूएई के सभी लाेग बहुत खुश नहीं हैं। यूएई के फिल्म निर्माता अब्दुल्लाह अल काबी ने कहा- ‘मैं इन नए कानूनों से खुश नहीं हो सकता, जो प्रगतिशील और सक्रिय हैं।’ समलैंगिक प्रेम और लिंग पहचान जैसे वर्जित विषयों पर फिल्म बना चुके काबी ने कहा- ‘यूएई के लिए 2020 एक कठिन और परिवर्तनकारी वर्ष रहा है।’