जाति प्रमाण पत्र के विवाद पर मुख्यमंत्री बघेल बोले- जोगी और रमन की जुगलबंदी सब जानते हैं; रमन का पलटवार- डर गई है सरकार

acn18.com/मरवाही उपचुनाव में जाति के विवाद के बीच सियासत का रंग गहरा रहा है। रविवार को मामले में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपनी प्रतिक्रिया दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा ने नकली आदिवासी के मुद्दे पर चुनाव लड़ा और सत्ता में आए। यह भी कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने जाति मामले में 15 साल लगा दिए, और उसी की दम पर सत्ता हासिल की। जोगी की जाति के संबंध में उनकी ही शिकायत थी। सब जानते है कि किस प्रकार से इनकी जुगलबंदी रही है।

सीएम बघेल ने कहा कि आदिवासी या अनुसूचित जाति के नाम पर बहुत से लोग फर्जी सर्टिफिकेट बनाकर नौकरी करते हैं। शिकायत होती है तो स्टे लेकर सालों तक फायदा उठाते रहते हैं। अब फैसला आया तो भाजपा को इसका स्वागत करना चाहिए, जो वो 15 साल में नहीं कर पाए- हमने 18 महीने में कर दिया। दरअसल, मरवाही में उपचुनाव में नामांकन पत्र दाखिल करने वाले अमित जोगी और ऋचा जोगी का पहले जाति सर्टिफिकेट रद्द कर दिया गया। बाद में इसी काे आधार बनाकर नामांकन पत्र भी खारिज कर दिया गया था। इस सीट से अजीत जोगी विधायक बने थे।