कोरबा लोकसभा सीट पर मुख्य मुकाबला भाजपा कांग्रेस में

कोरबा- कोरबा लोकसभा सीट के लिए मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशियों के मध्य ही होना है ! यह लगभग तय हो चुका है ! जोगी कांग्रेस के मुखिया अजीत जोगी द्वारा कोरबा से लड़ने को लेकर किंतु, परंतु, लेकिन का मतलब यही निकाला जा रहा है कि भविष्य की चिंता करते हुए नई रणनीति के तहत वे चाल चल रहे हैं !

15 वर्ष तक सत्ता सुख प्राप्त करने वाले भाजपा नेता और कार्यकर्ताओं को कोरबा के घंटाघर ओपन ऑडिटोरियम में एकत्रित देखा गया ! यह सभी भाजपा प्रत्याशी ज्योतिनंद दुबे के पक्ष में वातावरण तैयार करने और नामांकन पत्र दाखिल करने के अवसर पर साक्षी बनने पहुंचे थे ! मंच पर तो भीड़ थी लेकिन सामने भी जहां भीड़ होनी थी वहां काफी कुर्सियां खाली दिखी ! पंडाल के बाहर पेड़ के नीचे खड़े व बैठे कार्यकर्ता भी शायद गर्मी के कारण वृक्ष की छांव का सहारा ले रहे थे ! नेताओं के पसीने से लथपथ चेहरे और पेशानी पर बल देखने से लग रहा था कि बहुत दिन बाद वातानुकूलित कमरे से बाहर आने और जोगी कांग्रेस के नेता अजीत जोगी के कोरबा लोकसभा क्षेत्र से चुनाव ना लड़ने के संकेत से भी पसीना आने लगा है ! कहां तो उम्मीद लगाए बैठे थे कि अजीत जोगी चुनाव लड़ेंगे तो कांग्रेस प्रत्याशी को नुकसान और भाजपा को लाभ होगा ! वही अब वह सहारा भी मिलता नहीं दिख रहा है ! सूत्र बताते हैं कि अजीत जोगी की पार्टी ने लगभग तय कर लिया है कि वे लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार नहीं उतारेंगे और बसपा को समर्थन देंगे ! बसपा से नगरीय निकाय चुनाव के समय समर्थन लिया जाएगा ! सोमवार को जोगी कांग्रेस के प्रमुख नेताओं व कार्यकर्ताओं को रायपुर बुलवाया गया ! विचार-विमर्श किया गया और कमेटी से चर्चा के बहाने स्पष्ट करने से परहेज किया गया ! लेकिन तस्वीर स्पष्ट है कि अजीत जोगी कोरबा लोकसभा सीट से चुनाव नहीं लड़ेंगे !

हालांकि 4 अप्रैल तक नामांकन पत्र दाखिल करने का समय है ! नाम वापसी के बाद 7 अप्रैल को तस्वीर साफ होगी ! लेकिन धूल से सनी जो तस्वीर दिखाई दे रही है उसमें दो चेहरे दिख रहे हैं वह है श्रीमती ज्योत्सना महंत और ज्योति नंद दुबे का ! दोनों प्रत्याशियों ने शक्ति प्रदर्शन करते हुए नामांकन दाखिल कर दिया ! यथाशक्ति कार्यकर्ताओं को बटोरने का प्रयत्न दोनों दलों व प्रत्याशियों ने किया ! लेकिन शक्ति प्रदर्शन के मामले में कांग्रेस प्रत्याशी ने बाजी मार ली ! मुख्यमंत्री, विधायकों व प्रदेश के वरिष्ठ पदाधिकारियों की मौजूदगी में घंटाघर मैदान नारों से गूंजता रहा ! भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में ऐसा माहौल नहीं बन सका ! पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के बदले में पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक व कुछ अन्य नेता ही  कोरबा पहुंचे !

बहरहाल ज्योत्सना और ज्योति नंद के मध्य मुख्य मुकाबला होगा ! देखना है कि इन दोनों प्रत्याशियों के अलावा अन्य उम्मीदवार कितने मतदाताओं के दिल व दिमाग में अपनी उपस्थिति दर्ज करा पाते है !

ब्यूरो रिपोर्ट एसीएन न्यूज़