लक्ष्मीपुत्रों और भामाशाहों के नगर में सेवाकार्य, संकट की घड़ी में कोई नहीं रहेगा भूखा