एसईसीएल कोल इंडिया की बनी नंबर वन कंपनी

ACN18 कोरबा. 101.1 मिलियन टन कोयला उत्पादन करने के साथ ही एसईसीएल कोल इंडिया की पहली ऐसी कंपनी बन गई है,जिसने 100 मिलियन टन उत्पादन लक्ष्य को हासिल किया है। कोल इंडिया ने अब तक 452.5 कोयले का उत्पादन किया है जिसमें एसईसीएल ने सबसे अधिक 101.1 मीलियन टन कोयला उत्पादन किया है। इस बात की जानकारी एसईसीएल बिलासपुर के कार्मिक निदेशक आरएस झा ने दी।

प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद कोल इंडिया की अनुषांगिक कंपनी एसईसीएल कोयला उत्पादन के नई कीर्तिमान गढ़ते जा रही है। एसईसीएल बिलासपुर के कार्मिक निदेशक कोल इंडिया अंतर कंपनी लाॅन टेनिस प्रतियोगिता के समापन समारोह में पहुंचे हुए थे। उन्होंने कहा,कि कर्मचारियों की कड़ी मेहनत का ही नतीजा है,कि कोयला उत्पादन के मामले में एसईसीएल सिरमौर बना है। कोल इंडिया ने 452.5 मीलियन टन कोयला उत्पादन किया है जिसमें एसईसीएल की भूमिका सबसे अधिक है। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी,कि 42 क्यूबिक मीटर क्षमता वाला शाॅवेल मशीन और 240 टन क्षमता वाले डंपर की मदद से लगातार उत्पादन किया जा रहा है। इस दौरान उन्होंने यह भी बताया,कि कुसमुंडा परियोजना को 50 मीलियन टन कोयला उत्पादन करने की पर्यावरणीय स्वीकृति भी मिल गई है।

देश की उर्जा जरुरतों को पूरा करने में कोल इंडिया सबसे अग्रणी कंपनी है। यह महारत्न कंपनी देश की उर्जा जरुरतों के हिसाब से हमेशा खरी उतरी है जिसमें सबसे अहम भूमिका एसईसीएल की है। आने वाले समय में एसईसीएल का उत्पादन लक्ष्य बढ़ाया जाएगा ताकी भविष्य में उर्जा उत्पादन के लिए कोयले की किसी तरह की कमी न हो।