निर्भया केस: दिल्ली सरकार ने HC से कहा- दया याचिका दाखिल किए जाने की वजह से दोषियों को 22 जनवरी को नहीं दी जा सकती फांसी

ACN 18 नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने बुधवार को हाईकोर्ट से कहा कि निर्भया केस के दोषियों को 22 जनवरी को फांसी नहीं दी सकती, क्योंकि उनमें से एक ने राष्ट्रपति के पास दया की गुहार लगाई है. विनय शर्मा, मुकेश कुमार, अक्षय कुमार सिंह और पवन गुप्ता को अगले सप्ताह 22 जनवरी को सुबह 7 बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाने के आदेश दिए गए थे. कोर्ट ने पिछले सप्ताह इन चारों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किया था. इनमें से एक मुकेश सिंह ने मंगलवार को राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजी थी. दिल्ली सरकार और केन्द्र ने जस्टिस मनमोहन और संगीता धींगड़ा से कहा कि मौत की सजा पर अमल के आदेश के खिलाफ याचिका समय से पहले दायर की गई. जेल नियमों के तहत, मौत का वारंट जारी करने के लिए दोषी की दया याचिका पर फैसला आने का इंतजार करना पड़ता है.

तिहाड़ जेल की ओर से पेश हुए वकील राहुल मेहरा ने कोर्ट में कहा कि दया याचिका खारिज होने के बाद दोषियों को 14 दिनों का समय दिया जाता है