चिकित्सकों का विरोध प्रदर्शन पकड़ने लगा जोर, आपातकालीन सेवाओं को ठप्प करने की तैयारी

मनोज यादव कोरबा. सरकारी अस्पतालों में नए नियम थोपने के खिलाफ चिकित्सक लामबंद हो गए हैं और आपातकालीन सेवाओं को ठप्प करने का संकेत दे दिया है। ओपीडी सेवाओं को बंद करने के बाद भी सरकार ने उनकी मांगो पर गंभीरता नहीं दिखाई यही वजह है,कि गुरुवार को आपातकालीन सेवाओं पर ब्रेक लग सकता है। अगर ऐसा होता है,तो मरीजों को काफी परेशानियों क सामना करना पड़ेगा।

प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में दो शिफ्ट में ओपीडी सेवाओं को शुरु करने का निर्णय सरकार अगर वापस नहीं लेती है,तो चिकित्सक आपातकालीन सेवाओं को ठप्प कर सकते हैं। चिकित्सकों ने खुद इस बात की जानकारी दी है और गुरुवार से अपने आंदोलन को उग्र कर सकते हैं। सरकार का नया नियम चिकित्सकों को रास नहीं आ रहा है और यही वजह है,कि वे इसका विरोध कर रहे हैं। चिकित्सकों ने इससे पहले ओपीडी सेवाओं को बंद कर सरकार के नए निर्णय का विरोध कर चुके हैं बावजूद इसके शासन ने चिकित्सकों को गंभीरता से नहीं लिया यही वजह,कि सीडा के बैनतर तले आपातकालीन सेवाओं को बाधित करने का निर्णय लिया है। जिला अस्पताल के चिकित्साधिकारी डाॅ.रविकांत राठौर ने बताया,कि सरकार उनकी मांगो को नहीं मानती है,तो 40 चिकित्साधिकारियों के साथ-साथ उप व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक भी उनके प्रदर्शन में शामिल हो जाएंगे और आपातकालीन सेवाओं को ठप्प कर देंगे।