महाराष्ट्र में बुधवार को होगा फ्लोर टेस्ट

नई दिल्ली/नवप्रदेश। महाराष्ट्र  की फडणवीस सरकार को सुप्रीम कोर्ट से मंगलवार को झटका  है। फडणवीस सरकार को अब 30 नवंबर की जगह 27 नवंबर को बहुमत साबित करना होगा।

एनसीपी, शिवसेना व कांग्रेस की याचिका पर तीन जजों के बेंच ने साफ कर दिया कि संसदीय कामकाज में वह हस्तक्षेप नहीं करेंगे, लेकिन बेंच ने 27 नवंबरके अंदर फ्लोर टेस्ट कराने को भी कहा। यानी फडणवीस सरकार को 24 घंटे का वक्त मिला है। बुधवार शाम 5 बजे तक फडणवीस सरकार  को बहुमत सिद्ध करना होगा। सुप्रीम कोर्ट   ने यह ओदश भी दिया कि गुप्त मतदान न हो लाइव मतदान हो। यानी इसका सजीव प्रसारण मीडिया में होगी। सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए प्रोटेम स्पीकर का चुनाव करने के लिए कहा है, जो राज्यपाल करेंगे। इस फैसले को भाजपा के लिए फिलहाल झटके के रूप में देखा जा रहा है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र  के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बहुमत साबित करने के लिए 30 नवंबर तक का समय दिया था। बता दें कि शुक्रवार देर रात से महाराष्ट्र की राजनीत का घटनाक्रम बदल गया। भाजपा की ओर से एनसीपी के साथ सरकार बनाने का दावा पेश करने के बाद राज्यपाल कोश्यारी ने रविवार सुबह 5 बजे राष्ट्रपति शासन हटा दिया था। और सुबह 8 बजे देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री व अजित पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। सरकार गठन की इस प्रक्रिया को शिवसेना, कांग्रेस व एनसीपी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी।

जिस पर रविवार से लगातार सुनवाई जारी थी। सोमवार को हुई सुनवाई में भाजपा , एनसीपी, कांग्रेस व शिवसेना के वकीलों के बीच जमकर तीखी बहस हुई। सभी दलीलें व दस्तावेजों पर गौर करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मंगलवार 10:30 बजे फैसला सुनाया जाएगा।

ब्यूरो रिपोर्ट एसीएन न्यूज़ ..